Saturday, May 16, 2009

मुल्क फँसा है मझधारों में


गद्दी पर असवार* हो गए ।
जनता से सरकार हो गए ॥

'सोने की चिड़िया' पर उनके
सब के सब अधिकार हो गए ॥

पहले तो बेकार घूमते
लेकिन अब बाकार** हो गए ॥

कर्ज़दार है मुल्क भले ही
वे सरमायादार हो गए ॥

देश अंधेरे में पर उनके
सब सपने साकार हो गए ॥

पार नहीं पड़ रही 'लोक' की
पर वे अपरम्पार हो गए ॥

मुल्क फँसा है मझधारों में
उनके बेड़े पार हो गए ॥

२७ जनवरी २००६

* सवार ** कार सहित

पोस्ट पसंद आई तो मित्र बनिए (क्लिक करें)


(c) सर्वाधिकार सुरक्षित - रमेश जोशी । प्रकाशित या प्रकाशनाधीन ।
Ramesh Joshi. All rights reserved. All material is either published or under publication. Joshi Kavi

4 comments:

SWAPN said...

ab tak koi role nahin tha
extra the kirdaar ho gaye

joshi ji lagta hai apko padh kar hamen bhi gazal kahni aa jayegi.

bahut khoob rahi aapki rachna. wah wah wah.

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

वाह वाह

Harkirat Haqeer said...

कर्ज़दार है मुल्क भले ही
वे सरमायादार हो गए ॥

जोशी जी क्या खूब कही है .....!!

नवीन त्यागी said...

joshi g maine utpataang kaveetaaon par 50-50 tippaniyan dedhi hai.magar aapki sundar rahna par matr 3 tippani dhekhkar atyant dhukh hua.
ati sundar rachna ke liye shubhkamna.