Thursday, February 24, 2011

सक्रियता की सज़ा


(कर्नाटक का खान घोटाला उजागर करने वाले अधिकारी यू.वी. सिंह पर हमला- बैंगलोर,२०-
-२०११)

वे कानूनों से बड़े गुंडे जिनके साथ |
वे जब चाहें तोड़ दें सिर,मुँह,टाँगें, हाथ |
सिर,मुँह,टाँगें,हाथ; कोर्ट से क्या पाओगे ?
जब तक निबटे केस रिटायर हो जाओगे |
जोशी ताकतवर का हल तो भूत जोत दें |
गुंडे खानों के भारत की नींव खोद दें |

२१-२-२०११

पोस्ट पसंद आई तो मित्र बनिए (क्लिक करें)


(c) सर्वाधिकार सुरक्षित - रमेश जोशी । प्रकाशित या प्रकाशनाधीन । Ramesh Joshi. All rights reserved. All material is either published or under publication. Joshi Kavi

1 comment:

Kailash C Sharma said...

बहुत सटीक प्रस्तुति..